यदि आप smartphone user हैं तो संभवतः आपनेrooting के बारे में सुना होगा यदि नहीं सुना है तो मैं आपको
बताने वाला हूँ rooting क्या है और इसके फायदे और
नुकसान क्या हैं।

Rooting क्या है

rooting एक process है जिसके द्वारा आप अपने
smartphone के operating system, system files और codes को उसके root level
(अर्थात उसके जड़ या शुरुआत तक) तक access कर
सकते हैं। जब आप कोई भी नया smartphone खरीदते हैं
तो आपको कुछ pre installed softwares और applications
मिलते हैं, जिनमे से अधिकतर को आप change या modify
नहीं कर सकते। rooting द्वारा वो सभी permissions आपको मिल जाती हैं जो
कंपनी आपको नहीं देती।

दरअसल कोई भी company ये नहीं चाहती कि कोई भी user
उसके source code को access करके उसमे कोई भी
modification कर सके इसलिए वो अपने users को उतना
ही permission देती हैं जिससे आप स्मार्टफोन का सिर्फ use
कर सकें।

Smartphone में users company द्वारा installed files,
softwares में कोई भी छेड़छाड़ न कर सकें इसलिए users के लिए कुछ limitations होती हैं। rooting के द्वारा आप उन limitations को खत्म कर देते हैं
और हर वो काम कर सकते हैं जो कोई भी मोबाइल developer
कर सकता है।

Smartphone को root करने के लिए बहुत सारे software हैं
जो free में internet से download किये जा सकते हैं। इस पोस्ट में मैं rooting से होने वाले फायदे और नुकसान के बारे
में चर्चा करूँगा। rooting कैसे करना है उसके बारे में अलग से detail में चर्चा करेंगे।

Also Readनया smartphone खरीदने से पहले ये जरूर जान लें

Rooting के लाभ

  1. Rooting के द्वारा आप अपने smartphone को बेहतर
    तरीके से customize कर सकते हैं। आप अपने पसंद की theme और wallpaper डाल सकते हैं।
  2. कोई भी software जो पहले से installed है, जो आपको
    लगता है आपके काम का नहीं है पर पहले आप उसे delete
    नहीं कर सकते थे अब उसे delete कर सकते हैं।
  3. अपने phone की memory और battery को बढ़ा सकते है।
  4. Phone के system files को अपने requirement के
    हिसाब से modify कर सकते हैं।
  5. कोई भी third party software या aaplication
    install कर सकते हैं।
  6. Rooting से phone के processor की speed
    बढ़ाई जा सकती है।
  7. अपने smartphone में advertisement को block
    कर सकते हैं।

पर रूटिंग के जितने फायदे हैं उतने ही नुकसान भी हैं

Rooting से नुकसान

  1.  Rooting से आपका फ़ोन एक brick(ईंट का टुकड़ा)
    भर रह जाता है, क्योंकि बाहर की सारी दीवारें जो उस ईंट के
    चारों तरफ थी उन्हें आपने तोड़ दिया।
  2. Rooting के बाद आपके smartphone में virus और
    malicious attack खतरा बहुत बढ़ जाता है। रूटिंग के बाद hackers के लिए आपके phone में घुसना
    और आपका private और confidetial data और
    informations चुराना बहुत आसान हो जायेगा।
  3. Rooting process में आपके mobile का पूरा
    data permanently delete हो सकता है।
  4. यदि आपने अपना phone root कर लिया है तो
    आपके phone की warranty ख़त्म हो जायेगी। root के बाद आपकी mobile company आपको
    कोई service या warranty claim नहीं देगी।
  5. ऐसा भी हो सकता है कि rooting process के
    दौरान आपका फ़ोन dead हो जाये। उसके बाद आपका phone किसी काम का नहीं
    रह जायेगा।

Also Readअपने Android Phone में App permissions को control करें

Rooting एक technical process है। इसके लिए आपको काफी technical knowledge
होना चाहिए। बिना knowledge के अपने क़ीमती phone
के साथ खिलवाड़ करना सही नहीं है।

ज्यादातर लोग internet पर mobile phone, facebook,
whatsapp हैक कैसे करें इसके बारे में search करते हैं
जहाँ उनको कुछ software की मदद से phone hack
करने का दावा किया जाता है। और ऐसे software rooted
phone पर ही work करते हैं इस चक्कर में लोग अपना
फ़ोन रुट करने का risk ले लेते हैं पर यकीन मानिये ऐसा
कोई भी software नहीं कर सकता। इतनी आसानी से किसी का भी facebook या whatsapp
hack होने लगे तो सभी लोगों का hack हो गया होता।

इसलिए मेरी सलाह है कि जब तक बहुत जरुरी न हो phone
root न करें। एक सामान्य mobile user को root करने की
जरुरत कभी नहीं पड़ती। फिर भी यदि आप ऐसा करना
चाहते हैं तो अपने risk पर करें। और पूरी सावधानी और
जानकारी से करें।

 

Smartphone rooting के फायदे और नुकसान

5 thoughts on “Smartphone rooting के फायदे और नुकसान

  • December 12, 2016 at 10:28 pm
    Permalink

    Very important article

    Reply
      • March 17, 2017 at 11:11 am
        Permalink

        Thanks alot i just got my answer about this topic.

        Reply
    • March 17, 2017 at 11:20 am
      Permalink

      That’s a quitk-witced answer to a difficult question

      Reply
  • March 17, 2017 at 12:00 pm
    Permalink

    These topics are so cofnusing but this helped me get the job done.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar